FEATUREDउत्तर प्रदेशसोनभद्र

युवक की मौत से गुस्साए ग्रामीणों का सड़क जाम और प्रदर्शन, सीओ व तीन थाना प्रभारी मौके पर।

युवक की मौत से गुस्साए ग्रामीणों का सड़क जाम और प्रदर्शन, सीओ व तीन थाना प्रभारी मौके पर। उचित मुआवजा और सड़क मार्ग से कोयला परिवहन बंद की मांग पर अड़े ग्रामीण। एनसीएल दुद्धीचुआ परियोजना महाप्रबंधक अनुराग कुमार को ग्रामीणों के गुस्से का सामना करना पड़ा और ग्रामीणों ने महाप्रबंधक को वार्ता करने से बैरंग लौटा दिया।

युवक की मौत से गुस्साए ग्रामीणों का सड़क जाम और प्रदर्शन, सीओ व तीन थाना प्रभारी मौके पर।
फोटो : महामना न्यूज़।

युवक की इलाज के दौरान मौत की खबर जैसे ही ग्रामीणों को लगी आक्रोशित ग्रामीणों ने मुख्य मार्ग को जाम कर धरना प्रदर्शन करने लगे और सड़क मार्ग से कोयला परिवहन को बंद करने के साथ ही पीड़ित परिवार को उचित मुआवजा दिलाने की मांग पर अड़े रहे। ग्रामीणों के गुस्से को देखते हुए सीओ और तीन थाना प्रभारी भारी पुलिस बल के साथ मौके पर डटे रहे।

सोनभद्र जिले के शक्तिनगर थाना क्षेत्र अंतर्गत छुट्टी मनाने घर आए एमबीए छात्र रोहित गुप्ता पुत्र स्वर्गीय शिव कला गुप्ता उम्र 21 वर्ष निवासी अंबेडकरनगर की बुधवार को एनसीएल खड़िया आवासीय परिसर गेट नंबर दो के समीप कोयला परिवहन के ट्रेलर से एक्सीडेंट हो गया था। डायल 112 की टीम ने घायल युवक को स्थानीय एनटीपीसी संजीवनी चिकित्सालय में भर्ती कराया।

युवक की मौत से गुस्साए ग्रामीणों का सड़क जाम और प्रदर्शन, सीओ व तीन थाना प्रभारी मौके पर।
पिपरी क्षेत्राधिकारी प्रदीप सिंह चंदेल ग्रामीणों से वार्ता करते हुए। फोटो : महामना न्यूज़।

एनटीपीसी संजीवनी चिकित्सालय के डॉक्टरों ने गंभीर रूप से घायल रोहित गुप्ता को देखते ही नेहरू चिकित्सालय के लिए रेफर कर दिया। जहां प्राथमिक चिकित्सा करने के बाद डॉक्टरों ने बेहतर इलाज के लिए वाराणसी रेफर कर दिया। घायल युवक को चिकित्सालय ले जाने के दौरान उसके फोन पर कॉल आने से पुलिस कर्मियों ने परिवार को पूरे घटनाक्रम की जानकारी दिया।

युवक की मौत से गुस्साए ग्रामीणों का सड़क जाम और प्रदर्शन, सीओ व तीन थाना प्रभारी मौके पर।
मौके पर जिला पंचायत सदस्य पानपती देवी पत्नी संत कुमार उर्फ बबलू प्रधान। फोटो : महामना न्यूज़।

घायल युवक की इलाज के दौरान मौत – दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल युवक रोहित गुप्ता की वाराणसी अपेक्स हॉस्पिटल में इलाज के दौरान शुक्रवार सुबह मौत हो गई। रोहित गुप्ता की मौत की खबर जैसे ही उसके परिवार और गांव को लगी तो चारों तरफ मातम फैल गया और हर कोई कोयला परिवहन ट्रेलर के खिलाफ आक्रोशित हो गया। लोगों का गुस्सा इस कदर फूटा की शक्तिनगर जयंत मुख्य मार्ग पर विरोध कर सुबह 10:00 बजे से सड़क को जाम करते हुए कोयला परिवहन ठप कर दिया।

क्षेत्राधिकारी सहित तीन थानों की पुलिस बल मौके पर मौजूद – सड़क जाम होने की खबर जैसे ही स्थानीय शक्तिनगर थाना को पहुंची तो दल बल के साथ मौके पर पहुंचे थाना प्रभारी ने ग्रामीणों को समझाने बुझाने का बहुत प्रयास किया। लेकिन गांव के जवान युवक की कोयला ट्रेलर की चपेट में आने से मौत होने के कारण आक्रोशित ग्रामीण थाना प्रभारी की एक भी सुनने को तैयार नहीं हुए। जिसके बाद पिपरी क्षेत्राधिकारी प्रदीप सिंह चंदेल और अनपरा थाना प्रभारी श्रीकांत राय, बीजपुर थाना प्रभारी भैया एसपी सिंह सहित भारी पुलिस बल मौके पर शांति व्यवस्था बहाल हेतु मौजूद रहा।

युवक की मौत से गुस्साए ग्रामीणों का सड़क जाम और प्रदर्शन, सीओ व तीन थाना प्रभारी मौके पर।
चिल्काडांड ग्राम प्रधान हीरालाल। ‌ फोटो : महामना न्यूज़।

ग्रामीण तीन मांग पर अड़े – सड़क दुर्घटना से इलाज के दौरान 21 वर्षीय युवक की मौत के बाद ग्रामीण आक्रोशित होकर मुख्य मार्ग को जाम कर बैठे हुए हैं। गुस्साए ग्रामीणों ने प्रशासनिक अधिकारियों से तीन मांगे सामने रखी हैं। जिसमें पीड़ित परिवार को उचित मुआवजा, मुख्य मार्ग से कोयला परिवहन पूरी तरह बंद और क्षतिग्रस्त सड़क का जीर्णोद्धार तत्काल कराया जाए। पिपरी क्षेत्राधिकारी प्रदीप सिंह चंदेल द्वारा मध्यस्था कर एनसीएल प्रबंधन और ग्रामीणों के बीच बीच का रास्ता निकालने का प्रयास जारी है।

सोनभद्र - नवयुवक की मौत से आक्रोशित सैकडों महिलाओं ने किया सड़क जाम।
फोटो : महामना न्यूज़।

राष्ट्रहित के नाम पर जनहित को नकारना पड़ा भारी – कोयला परिवहन की गाड़ियों के तांडव को लेकर अंबेडकर नगर के ग्रामीण पिछले एक वर्ष से ज्ञापन और विरोध प्रदर्शन के माध्यम से प्रबंधन और प्रशासन से सड़क चौड़ीकरण की मांग करते रहे। लेकिन बिजली घरों में कोयला संकट और राष्ट्रहित जैसे राग अलाप कर प्रबंधन और प्रशासन ने जनहित का गला घोंटते रहा। जब जब ग्रामीणों ने सड़क मार्ग से कोयला परिवहन के खिलाफ आवाज उठाई तो एनसीएल प्रबंधन और पुलिस प्रशासन ने आश्वासन का झुनझुना थमाकर मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया। ग्रामीण बेबस और लाचार कोल ट्रांसपोर्ट से होने वाले प्रदूषण और तांडव को सहते रहे। यदि समय पर ग्रामीणों की मांगों पर एनसीएल प्रबंधन और पुलिस प्रशासन ध्यान दिया होता तो एक जवान युवक की जान ऐसे ना जाती।

एसडीएम और क्षेत्राधिकारी के सलाह को भी एनसीएल प्रबंधन ने किया था अनसुना – कोयला परिवहन से रोज लगने वाले जाम और प्रदूषण के खिलाफ ग्रामीणों के विरोध प्रदर्शन के बाद मौके का मुआयना करने पहुंचे दुद्धी एसडीएम शैलेंद्र मिश्रा और प्रदीप सिंह चंदेल ने एनसीएल दुद्धीचुआ प्रबंधन को 15 दिनों के अंदर गाड़ियों को मुख्य मार्ग से हटाकर खदान के अंदर पार्किंग स्थल तैयार करने का निर्देश दिया था। लेकिन एनसीएल दुद्धीचुआ प्रबंधन के ढुलमुल रवैया के कारण तीन महीने बीत जाने के बाद भी मुख्य मार्ग पर गाड़ियों का खड़ा होना बंद नहीं हो सका और स्थिति बद से बदतर होती चली गई।

आक्रोशित ग्रामीणों के साथ जनप्रतिनिधि भी मौके पर – ट्रेलर के धक्के से घायल युवक की इलाज के दौरान मौत से आक्रोशित ग्रामीणों ने मुख्य मार्ग को जाम कर विरोध प्रदर्शन किया। घटना की सूचना लगते ही मौके पर जिला पंचायत सदस्य श्रीमती पानपती देवी, ग्राम प्रधान हीरालाल, समाजसेवी आरके उपाध्याय, सपा नेता मोहन गुप्ता, भाजपा पिछड़ा प्रकोष्ठ मंडल अध्यक्ष अमरप्रकाश, विस्थापित नेता संत कुमार, समाजसेवी अयोध्या गुप्ता आदि जनप्रतिनिधि व नेता भी उपस्थित रहे। सभी जनप्रतिनिधि और नेताओं ने भी ग्रामीणों की मांग को उचित ठहराते हुए न्याय दिलाने की बात को दोहराया।

कुछ देर बाद ग्रामीणों के प्रतिनिधि मंडल और एनसीएल प्रबंधन के बीच होगी वार्ता – मौके पर उपस्थित संवाददाता के अनुसार कुछ देर बाद ही आक्रोशित ग्रामीणों और एनसीएल प्रबंधन के बीच पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों की उपस्थिति में वार्ता होना संभव है और माना जा रहा है कि कुछ बीच का रास्ता निकल सकता है।

महामना न्यूज़ के साथ जुड़े रहें और पूरे विषय पर हर अपडेट, जानकारी सबसे पहले हम आपको उपलब्ध कराएंगे। अगली अपडेट कुछ देर बाद …....

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button