धर्म/संस्कृतिसोनभद्र

हरिनाम संकीर्तन एवं भगवत गीता वितरण दो दिवसीय समारोह आयोजित।

हरिनाम संकीर्तन एवं भगवत गीता वितरण दो दिवसीय समारोह आयोजित। एनटीपीसी शक्तिनगर कॉलोनी में स्थित मनोरंजन केंद्र के ऑडिटोरियम में दो दिवसीय हरिनाम संकीर्तन एवं भगवत गीता वितरण समारोह का आयोजन बड़े हर्षोल्लास के साथ किया गया।

दीप प्रज्वलन श्री धाम वृंदावन से पधारे हुए संत प्रभु दीनदयाल जी, परम ब्रह्म प्रभु जी तथा मुख्य अतिथि एनटीपीसी मुख्य महाप्रबंधक बसुराज गोस्वामी, वनिता समाज अध्यक्षा श्रीमती जयिता गोस्वामी, मेंटेनेंस महाप्रबंधक बीएन झा, श्रीमती मंजू झा के कर कमलों द्वारा किया गया। (हरिनाम संकीर्तन एवं भगवद्गीता वितरण कार्यक्रम)

हरिनाम संकीर्तन एवं भगवत गीता वितरण दो दिवसीय समारोह आयोजित

इस अवसर पर हरिनाम संकीर्तन एवं भगवद्गीता वितरण कार्यक्रम के आयोजक एनटीपीसी उप महाप्रबंधक संजय पांडेय, श्रीमती बबीता पांडेय, शिव मंदिर समिति सचिव जेपी कुशवाहा, सह सचिव एसके सिंह, श्रीराम प्रधान, राम प्रकाश द्विवेदी (पवन कंस्ट्रक्शन कंपनी), विजय तिवारी एवं अजीत तिवारी (विजय कंस्ट्रक्शन कंपनी), श्रीमती प्रतिमा बाजपेई, राम स्नेही गिरी, बद्री प्रसाद आदि अन्य भक्त गण उपस्थित रहे।

हरिनाम संकीर्तन एवं भगवत गीता वितरण दो दिवसीय समारोह आयोजित

प्रभु दीनदयाल जी ने बताया कि कलयुग में हरिनाम किस प्रकार से जन्म, मृत्यु, जरा व्याधि से छुटकारा दिला सकता है। स्वयं भगवान श्री कृष्ण, श्रीमद भगवत गीता में बताते हैं कि यदि कोई भी जीवात्मा भगवान के नाम का श्रवण कीर्तन करता है तो उसे अन्य किसी देवी देवता की अलग से पूजा करने की कोई आवश्यकता नहीं है, सभी देवता स्वत: संतुष्ट हो जाते हैं।

हरिनाम संकीर्तन एवं भगवत गीता वितरण दो दिवसीय समारोह आयोजित

दूसरे दिन के हरिनाम संकीर्तन एवं भगवद्गीता वितरण कार्यक्रम में लगभग 1000 लोगों ने जिसमें बच्चे बूढ़े, जवान, स्त्रियां सभी लोग थे, वे सभी स्वेच्छा से भगवान को प्रसन्न करने के लिए एक साथ बड़े ही उत्साह से नृत्य किया और आनंद से झूमते नजर आए। भगवान श्री कृष्ण के दिव्य नाम का एक साथ मिलकर श्रवण कीर्तन एवं नृत्य करने के कारण सभी जड़ चेतन में दिव्य चेतना का अनुभव हुआ।

प्रभु दीनदयाल जी द्वारा 16 अक्षर का हरे कृष्णा महामंत्र “हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्णा हरे हरे, हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे” का 21 बार पूरे हाल में सभी भक्तों के साथ मिलकर के जप कराया गया। हरिनाम संकीर्तन एवं भगवद्गीता वितरण कार्यक्रम के पश्चात श्रीमद्भागवत गीता तथा प्रसाद का वितरण सभी भक्तों को किया गया। भक्तों के अंदर दिव्य चेतना का संचार हुआ और कार्यक्रम अति उत्साह के साथ संपन्न हुआ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button