उत्तर प्रदेशसोनभद्र

SONEBHADRA : सरकारी अस्पताल में प्राइवेट डॉक्टर ने कराया प्रसव, जच्चा-बच्चा की मौत, डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप।

सीएचसी में उपचार के दौरान जच्चा-बच्चा की मौत, डॉक्टर पर इलाज में लापरवाही का आरोप।

SONEBHADRA : सरकारी अस्पताल में प्राइवेट डॉक्टर ने कराया प्रसव, जच्चा-बच्चा की मौत, परिजनों ने डॉक्टर व सीएससी केंद्र पर लापरवाही का आरोप लगाया है। सोनभद्र जनपद से हैरान करने वाली खबर सामने आ रही है जहां सरकारी अस्पताल में प्राइवेट डॉक्टर से इलाज व प्रसव कराने के दौरान जच्चा-बच्चा की बिगड़ती हालत को देखकर जिला चिकित्सालय रेफर कर दिया गया। जिला चिकित्सालय जाने के दौरान रास्ते में ही प्रसूता और बच्चे ने दम तोड़ दिया। नाराज मृतका के परिजनों ने सोनभद्र (SONEBHADRA) जिले के सीएचसी चोपन पहुंचकर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा खड़ा कर दिया।

SONEBHADRA : सरकारी अस्पताल में प्राइवेट डॉक्टर ने कराया प्रसव, जच्चा-बच्चा की मौत, डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप।

जच्चा बच्चा के मौत के बाद परिजनों ने सीएससी केंद्र के कर्मचारियों और डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए उचित कार्रवाई की मांग करने लगे। जिसके बाद मौके पर पहुंचे चोपन थाना प्रभारी ने नाराज परिजनों को समझा-बुझाकर शांत कराया। लेकिन मृतिका के परिजनों के तहरीर को स्वीकार नहीं किया। परिजनों के बार बार मांग करने के बाद भी जच्चा बच्चा का पोस्टमार्टम तक नहीं कराया गया। सरकारी स्वास्थ्य केंद्र पर एक सरकारी डॉक्टर होता है। लेकिन प्राइवेट डॉक्टर को बुला कर इलाज व प्रसव कराना संदेह के घेरे में है।

जानें पूरा मामला –
SONEBHADRA : सोनभद्र जिले के चोपन स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में बुधवार को उपचार के दौरान जच्चा-बच्चा की हालत बिगड़ गई। मामला गंभीर होता देख डॉक्टर ने जच्चा-बच्चा को जिला अस्पताल रेफर कर दिया। वहां पहुंचने पर दोनों को मृत घोषित कर दिया गया। जच्चा बच्चा के ऑपरेशन के लिए प्राइवेट डॉक्टर बुलाए गए। जबकि सरकारी अस्पताल में एक सर्जन होता है।

जिसके बाद परिजनों ने डॉक्टर पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा किया। मामले की जानकारी होने पर मौके पर पहुंचे थाना प्रभारी केके सिंह ने नाराज लोगों को समझा-बुझाकर शांत कराया। वहीं पुलिस की बड़ी लापरवाही देखने को मिली। परिजनों के द्वारा दिया गया तहरीर भी पुलिस नही ली औऊ आरोप के बावजूद मृतकों के शवो का पोस्टमार्टम तक नही करवाया गया।

SONEBHADRA : पूरे प्रकरण में जानकारी के अनुसार बुधवार दोपहर बाद गर्भवती मधु उम्र 23 वर्ष पत्नी करण कुमार निवासी बिल्ली ओबरा को सीएचसी चोपन में भर्ती कराया गया। शाम चार बजे के बाद डॉक्टरों की टीम ने ऑपरेशन कर प्रसव कराया। आरोप है कि ऑपरेशन के लिए सरकारी डॉक्टर होते हुए नदारत थे, जिसके बाद प्राइवेट डॉक्टर फीस देकर बुलाए गए। इसके बाद प्रसूता और उसके बच्चे की हालत गंभीर हो गई।

डॉक्टर ने जच्चा-बच्चा को जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। परिवार के लोग दोनों को लेकर अस्पताल को रवाना हुए, लेकिन रास्ते में उनकी मौत हो गई। इसके बाद परिवार के लोग शव को लेकर सीएचसी चोपन पहुंचे और स्वास्थ्यकर्मियों की लापरवाही से मौत होने का आरोप लगाते हुए हंगामा करने लगे।

उधर मामले की जानकारी मिलते ही दल-बल के साथ चोपन थाना प्रभारी श्री कृष्ण ने अस्पताल पहुंचकर नाराज लोगों को समझा-बुझाकर शांत कराया। पुलिस पर भी गम्भीर लापरवाही के आरोप लग रहे है।

पुलिस ने शव को कब्जे में लेना मुनासिफ नही समझा और ना ही परिजनों की तहरीर लेकर कोई कार्यवाही की परिजनों को समझा बुझाकर मृतकों के दाह संस्कार करा दिया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button