FEATUREDसिंगरौलीसोनभद्र

कोयले का काला खेल : अवैध कोयले की सूचना से मचा हड़कंप।

कोयले का काला खेल : अवैध कोयले की सूचना से मचा हड़कंप। शक्तिनगर दुद्धीचुआ कोयला खदान बैरियर के पास अवैध कोयला मिलने की सूचना से प्रबंधन एवं क्षेत्र में हड़कंप की स्थिति बनी रही। सूचना के तफ्तीश करने पर पता चला कि शिव शक्ति ट्रांसपोर्ट के अंतर्गत डीओ नंबर 128 से बरगवां रेलवे साइडिंग के लिए ट्रेलर नंबर यूपी 64 बीटी 2971 एवं यूपी 64 बीटी 2973 पर कोयला लोड किया गया। लेकिन कांटा कराने के बाद ट्रेलर चालक ने वाराणसी मंडी जाने की जिद कर दी। जिस पर प्राइवेट सिक्योरिटी ने उक्त ट्रेलर को बैरियर के समीप खड़ा करा दिया। अवैध कोयला की सूचना प्राप्त होने पर मौके पर पहुंची शक्तिनगर पुलिस ने एनसीएल दुद्धीचुआ प्रबंधन के अधिकारियों से वार्ता कर मामले की जानकारी लिया।

कोयले का काला खेल : अवैध कोयले की सूचना से मचा हड़कंप।
मौके पर पूछताछ करती पुलिस। फोटो : महामना न्यूज़।

एनसीएल दुद्धीचुआ कोल डिस्पैच अधिकारी नरेंद्र कुमार ने बताया कि खदान से कोयला लोड कर रात्रि 9:30 बजे ट्रेलर बाहर निकला, जिसे वैद्य कागजात के साथ बरगवां रेलवे साइडिंग पहुंचना था। लेकिन ट्रांसपोर्टर और चालक के बीच अनबन होने के कारण गाड़ी को बैरियर के समीप खड़ा करा दिया गया। मामले को उच्चाधिकारियों के संज्ञान में देकर दोनों कोयला लदे ट्रेलर को बरगवां रेलवे साइडिंग रवाना किया जा रहा है।

जानें पूरा मामला –
एनसीएल दुद्धीचुआ खदान से डीओ नंबर 128 से शिव शक्ति ट्रांसपोर्ट अंतर्गत कोयला लोड कर बरगवां रेलवे साइडिंग भेजा जाता है। जहां से ट्रेन के माध्यम से महाराष्ट्र सोलापुर स्थित एनटीपीसी के लिए कोयला भेजा जाता है। परंतु कोयला लोड कराने के बाद दोनों ट्रेलर चालकों ने वाराणसी मंडी जाने की जिद कर दी। जिसके बाद प्राइवेट सिक्योरिटी ने कोयला लदे ट्रेलरों को खड़ा करा लिया। जिससे धीरे धीरे आम लोगों में शक गहराने लगा कि हो सकता है यह अवैध कोयला पकड़ाया हो।

कोयले का काला खेल : अवैध कोयले की सूचना से मचा हड़कंप।
एनसीएल दुद्धीचुआ खदान बैरियर समीप खड़ी ट्रेलर। फोटो : महामना न्यूज़।

शिव शक्ति ट्रांसपोर्ट सुपरवाइजर जगदीश प्रसाद ने बताया – ओम ट्रांसपोर्ट के मुंशी आदित्य दुबे और बबलू गुप्ता द्वारा दोनों ट्रेलरों को कोयला लोडिंग के लिए भेजा गया था। दोनों ट्रेलरों के पास एसडीएम पासिंग का कागजात था। लेकिन चालक द्वारा बनारसी मंडी जाने की जिद करने पर ट्रेलरों को खड़ा करा लिया गया।

पूरे प्रकरण में टाइमिंग का खेल – एनसीएल दुद्धीचुआ कोयला खदान से रात 9:30 बजे बैरियर से आउट होने के बाद नियम के तहत कोयला लदे ट्रेलर को उसी रात बरगवां रेलवे साइडिंग 11:40 बजे तक 40 किलोमीटर की दूरी तय कर पहुंचना था। ‌ लेकिन रात 1:30 बजे बरगवां ना जाकर वाराणसी मंडे जाने की जीद के कारण ट्रेलर को खड़ा करा लिया गया। सवाल उठता है कि रात 1:30 बजे से खड़े कोयला लदी ट्रेलर पर एनसीएल सुरक्षा विभाग एवं प्रबंधन के आला अधिकारियों को सूचित क्यों नहीं किया गया, रात 1:30 बजे से सुबह 10:00 बजे तक मामले में लीपापोती का प्रयास अवैध कोयला का सिंडिकेट चला रहे गुर्गों द्वारा जारी था ?

यदि कोयला लदे ट्रेलर को संदिग्ध जानकर बैरियर के पास खड़ा कराया गया तो प्रबंधन के संबंधित विभाग के आला अधिकारियों को सूचना क्यों नहीं दी गई ? मीडिया एवं पुलिस के पहुंचने के बाद ही एनसीएल दुद्धीचुआ प्रबंधन हरकत में आया।

लिंकेज कोयला को मंडी भेजने का गिरोह सक्रिय – एनसीएल की परियोजनाओं से पावर प्लांट और तमाम कंपनियों को लिंकेज कोयला उचित दाम पर उपलब्ध कराया जाता है। लेकिन लिंकेज कोयला को सांठगांठ कर वाराणसी मंडी भेजने का गिरोह बड़े पैमाने पर क्षेत्र में सक्रिय है। सोमवार को एनसीएल दुद्धीचुआ परियोजना कोयला खदान समीप महाराज सोलापुर एनटीपीसी के लिए जा रहे लिंकेज कोयले को वाराणसी मंडी ले जाने की जीद के पीछे कहीं अवैध कोयले के कारवां रिया का सिंडिकेट दो नहीं था, पुलिस प्रशासन को इसकी जांच करनी चाहिए। कुछ माह पूर्व भी बड़े पैमाने पर मध्य प्रदेश जा रहे लिंकेज कोयला को वाराणसी मंडी ले जाते समय अनपरा से लेकर डाला चौकी के बीच कई दर्जन ट्रक पकड़ाए थे।

पूरे खेल में अवैध कोयला के सिंडिकेट की फिर से सक्रिय होने से इनकार नहीं किया जा सकता है। ‌जिस तरह से पूरे मामले में रक्षा विभाग एवं प्रबंधन द्वारा ढुलमुल रवैया अपनाया गया, उससे जाहिर होता है कि बैरियर से बाहर कोयला निकलने के बाद अवैध कोयले का कारोबार करने वाले ड्राइवरों से मिलकर अपना खेल रच रहे हैं। बहरहाल दो ट्रेलर तो चालक के जीद के कारण पकड़ में आ गए, लेकिन कई ट्रेलर ऐसे ही मंडी पहुंच जाते होंगे, पूरे मामले में उचित जांच होनी चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button