FEATUREDउत्तर प्रदेशसोनभद्र

मुनीब गुप्ता के होटल के ध्वस्तीकरण की तिथि व मजिस्ट्रेट नियुक्त ?

सरकारी जमीन पर कब्जा कर बनाए गए होटल पर चलेगा बुलडोजर ?

एनसीएल खड़िया परियोजना की सरकारी जमीन पर जबरन कब्जा कर अवैध रूप से निर्मित होटल को ध्वस्त कर अवैध कब्जे से मुक्त कराए जाने हेतु मजिस्ट्रेट की नियुक्ति एवं ध्वस्तीकरण की तिथि निर्धारित कर दी गई है। एनसीएल खड़िया परियोजना की भूमि आराजी नंबर 441 पर मुनीब गुप्ता व पप्पू यादव द्वारा अवैध अतिक्रमण कर होटल संचालित किया जा रहा है, जिसकी शिकायत एनसीएल खड़िया प्रबंधन ने सोनभद्र प्रशासन से की थी।

एनसीएल खड़िया की भूमि पर जबरन कब्जा कर अवैध रूप से होटल निर्माण व व्यवसाय संचालित करने की शिकायत प्रबंधन द्वारा प्रशासन से की गई थी। जिस पर विचार करते हुए पूर्व में 14 सितंबर 2020 को ध्वस्तीकरण की तिथि निर्धारित की गई थी, परंतु पर्याप्त पुलिस बल उपलब्ध नहीं हो सकने के कारण ध्वस्तीकरण की प्रक्रिया नहीं हो सकी।

जिसके बाद गुना 30 सितंबर 2020 को ध्वस्तीकरण की तिथि निर्धारित की गई थी, किंतु उसी दिन अयोध्या में घटित घटना के संदर्भ में सीबीआई कोर्ट के निर्णय के दृष्टिगत कानून व्यवस्था को देखते हुए कार्रवाई संभव नहीं हो पाई। अब पुनः 4 मई 2022 को अवैध अतिक्रमण कर बनाए गए होटल को ध्वस्तीकरण की तिथि निर्धारित की गई है।

पिपरी क्षेत्राधिकारी को पर्याप्त पुलिस बल उपलब्ध कराने के लिए कहा गया है। साथ ही शक्तिनगर थाना प्रभारी को निर्देशित किया गया है कि पर्याप्त पुलिस बल के साथ मौके पर उपस्थित रहकर शांति व्यवस्था सुनिश्चित करने का कष्ट करें।

वहीं आमजन में चर्चा शुरू हो गई है कि क्या इस बार होटल पर बुलडोजर चलेगा या फिर से लीपापोती कर पूरे मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया जाएगा।

The date of demolition of Muneeb Gupta’s hotel and the magistrate appointed.

Will the bulldozer run on the hotel built by occupying government land?

The appointment of magistrate and the date of demolition has been fixed to demolish the illegally constructed hotel by forcibly occupying the government land of NCL Khadia project and free it from illegal occupation. The hotel is being operated by illegal encroachment by Muneeb Gupta and Pappu Yadav on the land of NCL Khadia project, Araji number 441, which was complained by the NCL Khadia management to the Sonbhadra administration.

A complaint was made by the management to the administration about illegally operating hotel construction and business by forcibly occupying the land of NCL Khadia. Considering which earlier the date of demolition was fixed on 14th September 2020, but due to non-availability of sufficient police force, the process of demolition could not be done.

After which the date of demolition of Guna was fixed on 30 September 2020, but in view of the decision of the CBI Court regarding the incident in Ayodhya on the same day, action could not be possible in view of law and order. Now again on May 4, 2022, the date of demolition of the hotel built by illegal encroachment has been fixed.

The Pipri Circle Officer has been asked to provide adequate police force. Along with this, the in-charge of Shaktinagar police station has been directed to ensure peace and order by being present on the spot with adequate police force.

At the same time, discussion has started in the general public whether this time the hotel will be bulldozed or the whole matter will be put in cold storage by shaving again.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button