उत्तर प्रदेशसोनभद्र

वनवासी व आदिवासी समाज को वनाधिकार अधिनियम के तहत लाभान्वित किया जाए : मंत्री संजीव गौंड़।

अनुसूचित जाति/जनजाति एवं वन निवासी पात्रों को वनाधिकार अधिनियम के तहत किया जाये लाभान्वित-संजीव गौंड़।

अनुसूचित जनजाति और अन्य परम्परागत वन निवासी को वन अधिकार अधिनियम के तहत पात्र व्यक्तियों को लाभान्वित किए जाने के सम्बन्ध में सर्किट हाउस सभागार में समाज कल्याण विभाग राज्य मंत्री संजीव गौंड़ की अध्यक्षता में बैठक की गयी। बैठक में मंत्री संजीव गौंड़ ने उपस्थित अधिकारियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार की मंशा है कि है कि अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति व अन्य परम्परागत वन निवासी पात्रों को वनाधिकार अधिनियम के तहत लाभान्वित किया जाये।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का मुख्य उद्देश्य है कि वनवासी, आदिवासी समाज के पात्र लोगों को वनाधिकार अधिनियम के तहत लाभान्वित किये जाये तथा केन्द्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा संचालित योजनाओं से भी लाभान्वित किये जाये, जिससे इनके जीवन स्तर में बेहतर सुधार आये। मंत्री संजीव गौंड़ ने कहा कि अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति व अन्य परम्परागत वन निवासी जो विगत कई वर्षों से वन क्षेत्र में निवास कर रहे हैं, उन्हें प्राथमिकता के आधार पर इस योजना से लाभान्वित किया जाये।

बैठक में जिलाधिकारी चन्द्र विजय सिंह ने उपस्थित अपर जिलाधिकारी, उप जिलाधिकारीगण व अन्य अधिकारीगण को निर्देशित करते हुए कहा कि वन अधिकार अधिनियम के तहत अनुसूचित जनजाति और अन्य परम्परागत वन निवासी पात्र व्यक्तियों का रोस्टर बनाकर सत्यापन आदि का कार्य ग्राम स्तर पर कर लिया जाये। उन्होंने उप जिलाधिकारी दुद्धी को निर्देशित करते हुए कहा कि सेल बनाकर इस कार्य के निस्तारण में तेजी लायें क्योंकि वनाधिकार अधिनियम से सम्बन्धित सबसे अधिक मामले दुद्धी क्षेत्र में है। इस कार्य में किसी स्तर पर शिथिलता न बरती जाये।

बैठक में विधायक दुद्धी रामदुलार गौंड़, वन प्रभागीय वनाधिकरी संजीव कुमार सिंह, अपर जिलाधिकारी (वि0/रा0) राकेश सिंह, उप जिलाधिकारीगण, तहसीलदारगण, अपर जिला सूचना अधिकारी विनय कुमार सिंह आदि उपस्थित रहें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button