Crime NewsFEATUREDउत्तर प्रदेशशाहजहांपुर

गैंग रेप पीड़िता को 28 वर्ष बाद बेटे ने दिलाया न्याय।

27 साल के बाद बेटा अपनी मां से पूछ रहा है, मेरा बाप कौन है? तब जाकर 27 साल बाद वो अभागी मां फफ्क-फफक कर रो पड़ी और अपने बेटे को गले लगाते हुए अपनी दर्द भरी कहनी अपने बेटे को सुनाई। कहनी सुनने के बाद बेटे ने आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कराया है। यह कहानी आम कहानी नहीं हैं, यह कहानी दिल दिमाग और रिश्तों को झकझोर देने वाली वो कहानी है, जो ना इससे पहले कभी सुनी होगी और ना सुनाई गई होगी। इस पूरी रिपोर्ट में सस्पेंस के साथ दिमाग को झकझोर देने वाली सच्चाई भी है और जो अब तक सुनते आ रहे हैं कि कानून के हाथ लंबे होते हैं, उसकी झलक भी है। पढ़ें पूरी रिपोर्ट-

Photo by Google

रिश्तों को झकझोर देने वाला एक अनोखा मामला सामने आया हैं। यहां गैंग रेप पीड़ित महिला को 28 वर्ष बाद उसके बेटे ने न्याय दिलाया है। एक साल पहले रेप के मामले में दर्ज कराई गई रिपोर्ट के बाद आरोपी की डीएनए रिपोर्ट पॉजिटिव आई हैं। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद पुलिस ने टीम बनाकर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी हैं। यह कहानी किसी फिल्म की नही हकीकत है।

मामला 28 साल पुराना है, 27 साल के बाद बेटा मां से पूछ रहा है, मेरा बाप कौन है? तब जाकर 27 साल बाद वो अभागी मां फफफ्क फफक कर रो पड़ी और अपने बेटे को गले लगा लिया और अपना दर्द भरी कहनी अपने बेटे को सुनाई। कहनी सुनने के बाद आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कराया है। यह कहानी एक आम कहानी नहीं हैं, यह कहानी दिल दिमाग और रिश्तों को झकझोर देने वाली ये वो कहानी है, जो ना इससे पहले कभी सुनी होगी और ना सुनाई गई होगी।

यह कहानी है उत्तर प्रदेश शाहजहांपुर की, थाना सदर बाजार इलाके की रहने वाली महिला ने बताया कि घटना 1994 की है, जब वह महिला 12 साल की एक नाबालिग बच्ची थी और अपनी बहन और जीजा के साथ रहती थी। उनके पड़ोस में दो लड़के रहते थे, दोनों सगे भाई हैं। बच्ची की बहन और जीजा काम के सिलसिले में अक्सर घर से बाहर रहा करते थे जब भी वो दोनों बाहर जाते, दिन में मौका देखकर दोनों भाई उस लडकी के साथ ज़बरदस्ती रेप करते थे, यह सिलसिला करीब 6-7 महीने तक चलता रहा।

Photo by Google

इस दौरान लडकी की तबियत खराब हो गई, बच्ची को लेकर परिजन अस्पताल पहुंचें, जांच के बाद पता चला लडकी गर्भवती है। यह जानकर बच्ची के घरवालों के पैरो के नीचे से जमीन खिसक गई। इस दौरान डॉक्टरों ने अबॉर्शन करने से मना कर दिया और कहा इससे बच्ची की जान जा सकती है। मजबूरन बच्ची की बहन और जीजा बच्ची को लेकर दूसरी जगह चले गए, बाद में बच्ची ने एक बेटे को जन्म दिया।

13 वर्ष की बच्ची अब खुद मां बन चुकी थी। बिन ब्याही बच्ची के इस सच को छुपाने के लिए उसकी बहन और जीजा ने बच्चे को एक परिवार को गोद दे दिया। वक़्त बीतता गया, बच्ची अब बड़ी हो गई, बहन और जीजा एक अच्छा रिश्ता देखकर उसकी शादी कर देते है। 27 साल बाद किसी तरह उसके लड़के को यह बात पता चलती है तो लड़का अपनी मां से पूंछता है की मेरा बाप कौन है?

जिसके बाद लड़का अपनी मां को थाना सदर बाजार लेकर पहुंचा और दो आरोपियों के खिलाफ गैंग रेप की तहरीर दी, पीड़िता की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू की इस दौरान आरोपियों और लड़के का डीएनए टेस्ट के लिए सैंपल भेज दिया गया था। 5 अप्रैल 2022 मंगलवार को रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद पुलिस ने आरोपियों की गिरिफ्तारी के लिए टीम बना दी है। भले ही महिला को 28 साल के बाद न्याय मिल रहा हो लेकिन कहीं न कहीं सच्चाई जानकर आप का भी दिल भी थोड़ी देर के लिए थम गया होगा।

After 28 years, the son got justice for the gang rape victim.

After 27 years the son is asking his mother, who is my father? Then after 27 years, the unfortunate mother cried bitterly and while embracing her son, narrated her painful story to her son. After hearing the story, the son has filed a case against the accused. This story is not a common story, this story is a story that shakes the heart, mind and relationships, which has never been heard or heard before. Along with the suspense in this entire report, there is also a mind-shocking truth and there is also a glimpse of those who have been hearing till now that the hands of the law are long. Read full report-

A strange case has come to the fore that shakes the relationship. Here the gang rape victim woman has been given justice after 28 years by her son. After the report filed in the rape case a year ago, the DNA report of the accused has come positive. After the report came positive, the police formed a team and started searching for the accused. This story is not a movie but a reality.

The matter is 28 years old, after 27 years the son is asking the mother, who is my father? Then after 27 years, that unfortunate mother cried bitterly and hugged her son and narrated her painful story to her son. After hearing the story, a case has been registered against the accused. This story is not a common story, this story is a story that shakes the heart, mind and relationships, which has never been heard or heard before. This is the story of Uttar Pradesh’s Shahjahanpur, a woman from Thana Sadar Bazar area told that the incident is of 1994, when the woman was a 12-year-old minor girl and lived with her sister and brother-in-law. Two boys lived in their neighbourhood. Yes, both are real brothers. The girl’s sister and brother-in-law used to often stay out of the house in connection with work, whenever they both went out, seeing the opportunity during the day, both the brothers used to forcefully rape the girl, this process continued for about 6-7 months.

During this, the girl’s health deteriorated, the family members reached the hospital with the girl child, after investigation it was found that the girl was pregnant. Knowing this, the ground slipped from under the feet of the girl’s family members. During this, the doctors refused to do the abortion and said that it can kill the child. Forcedly the girl’s sister and brother-in-law took the girl to another place, later the girl gave birth to a son. The 13-year-old girl had now become a mother herself. To hide this truth of the unmarried girl, her sister and brother-in-law adopted the child to a family. Time passes, the girl is now grown up, sister and brother-in-law see a good relationship and marry her. After 27 years, somehow his boy comes to know about this, then the boy asks his mother who is my father?

After which the boy took his mother to the police station Sadar Bazar and filed a complaint of gang rape against the two accused, on the complaint of the victim, the police registered a case and started the investigation, during which the samples of the accused and the boy were sent for DNA test. Was. After the report came positive on Tuesday, 5 April 2022, the police have formed a team to arrest the accused. Even though the woman is getting justice after 28 years, but knowing the truth somewhere, your heart too must have stopped for a while.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button