उत्तर प्रदेशसोनभद्र

कोयले के धूल से आजिज ग्रामीणों ने रोका कोयला परिवहन।

कोयला खदान से क्षेत्र में हो रहे प्रदूषण से परेशान ग्रामीणों ने एनसीएल खड़िया खदान क्षेत्र के अंदर कोयला डिस्पैच को रोक कर प्रदर्शन किया और पानी छिड़काव की मांग रखी। मौके पर 4 घंटे बाद पहुंचे एनसीएल अधिकारियों ने ग्रामीणों को पानी छिड़काव का आश्वासन देकर वापस भेजा।

दरअसल पूरा मामला शक्ति नगर थाना क्षेत्र अंतर्गत खड़िया ग्राम पंचायत के नाऊ टोला से जुड़ा हुआ है। जहां कोयला खदान से उड़ कर आ रहे धूल से ग्रामीण परेशान हैं। कोयले की धूल इस कदर उड़ती है कि ग्रामीण खाने के साथ धूल फांकने को विवश हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि एनसीएल खड़िया खदान के कोयले की धूल के कारण उनकी जिंदगी में जहर घुल रहा है।

कोयले की धूल से परेशान ग्रामीणों ने खड़िया प्रबंधन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया और सोमवार को मुख्य तौर पर महिलाओं ने समाजसेवी मुकेश सिंह के नेतृत्व में घर से बाहर निकल कर एनसीएल खड़िया खदान क्षेत्र में कोयला परिवहन को बाधित करते हुए विरोध प्रदर्शन जताया। लगभग 4 घंटे बाद पहुंचे एनसीएल कोयला डिस्पैच अधिकारी दिनेश मिश्रा व सिक्योरिटी अधिकारी शिवेंद्र सिंह ने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि पानी छिड़काव के चक्कर को बढ़ाया जाएगा, जिसके बाद ग्रामीण वापस लौट गए।

एनसीएल खड़िया स्टॉप अधिकारी अनिल टोप्पो ने बताया कि नाऊ टोला में पानी का छिड़काव लगातार होता था, यदि फिर भी धूल की समस्या ग्रामीणों को हो रही है तो पानी छिड़काव के चक्कर को बढ़ाया जाएगा। एनसीएल कोयला उत्पादन के साथ पर्यावरण व आसपास राष्ट्रवादी क्षेत्रों में बेहतर विकास के लिए संकल्पित है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button