FEATUREDउत्तर प्रदेशबाराबंकीभारत

सरकारी सिस्टम फेल, मानवता शर्मसार : बाइक से शव लेकर बेटा पहुंचा घर।

मानवता को शर्मसार कर देने वाली खबर जिसमें एंबुलेंस ना मिलने के कारण मृतक को मोटरसाइकिल से उसका बेटा घर तक लाया। सरकारी सिस्टम की धज्जियां उड़ाते हुए खबर बाराबंकी जिले के हैदरगढ़ समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से मानवता को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। यहां सुबेहा थाने क्षेत्र के रजवापुर थलवारा गांव के एक 55 वर्षीय व्यक्ति को टीवी की गंभीर बीमारी थी इसको लेकर व्यक्ति की सोमवार को तबीयत बिगड़ गई। परिजन व्यक्ति को लेकर सीएचसी हैदरगढ़ पहुंचे जहां डॉक्टरों ने व्यक्ति का इलाज शुरू किया लेकिन व्यक्ति की हालत बिगड़ने से कुछ ही देर में मौत हो गई।

जिसके बाद परिजनों ने एक 108 पर कॉल किया। कॉल करने पर बताया गया कि शव को ले जाने के लिए एंबुलेंस नहीं है। जिसके बाद परिजनों को मरीज के शव को बाइक पर ले जाना पड़ा। हालांकि अस्पताल के अधीक्षक का कहना है कि शव वाहन जिला अस्पताल में उपलब्ध रहता है। सीएचसी पर शव वाहन नहीं रहता है।

बाराबंकी में सुबेहा थाने के रजवापुर थलवारा गांव के 52 वर्षीय व्यक्ति शिवशंकर गौतम टीवी रोग था। जिसके चलते शिव शंकर गौतम की सोमवार को अचानक तबीयत बिगड़ गई। तबीयत ज्यादा खराब होने पर इलाज के लिए परिजन उसे सीएचसी हैदरगढ़ लेकर गए। यहां मौजूद डॉक्टरों ने व्यक्ति का इलाज शुरू किया। कुछ ही देर में व्यक्ति की मौत हो गई। व्यक्ति की मौत के बाद परिजनों में कोहराम मच गया। परिजनों के साथ इलाज कराने आए गांव के एक व्यक्ति ने शव ले जाने के लिए 108 पर कॉल किया। 108 पर कॉल करने पर बताया गया कि शव ले जाने के लिए सीएससी पर वाहन उपलब्ध नहीं है।

परिजन शव ले जाने के लिए वाहन ढूंढते रहे। काफी देर तक वाहन ना मिल पाने से मृतक का बेटा गांव के एक व्यक्ति की बाइक पर अपने पिता के शव को किसी तरह बिठाकर घर लेकर पहुंचा। शव को बाइक पर ले जाते हुए देख लोगों ने इसका फोटो भी ले लिया। जो अब वायरल हो रहा है और सरकारी तंत्र पर सवाल खड़ा कर रहा है। जब इस बारे में हैदरगढ़ सीएससी अधीक्षक मुकुंद पटेल से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि शव वाहन जिला चिकित्सालय में रहता है। सीएचसी पर उपलब्ध नहीं था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button