FEATUREDउत्तर प्रदेशराजनीतिलखनऊवाराणसीविधानसभा चुनावसोनभद्र

मतगणना में गड़बड़ी कराने की आशंका, मुख्यमंत्री के सचिव डीएम को कर रहे फोन : अखिलेश।

वाराणसी में ईवीएम को पकड़े जाने की खबर ने उत्तर प्रदेश की सियासत में भूचाल ला दिया है और अखिलेश यादव ने घटना का जिक्र करते हुए प्रदेश की हर विधानसभा के कार्यकर्ताओं को चौकन्ना रहने का संदेश दिया है। अखिलेश यादव ने कहा कि वाराणसी और अयोध्या में समाजवादी पार्टी बड़े अंतर से चुनाव जीत रही है जिसे लेकर भाजपा में खलबली मची हुई है और सपा को इन दो जिलों में हराने के लिए भाजपा ने षड्यंत्र रचना शुरू कर दिया। हालांकि वाराणसी के जिलाधिकारी राज कौशल शर्मा ने अधिकारिक जान जारी करते हुए कहा है कि जो ईवीएम पकड़े जाने का हल्ला मचाया जा रहा है उसे मतगणना से पूर्व मतदान कर्मियों को मतगणना करने की ट्रेनिंग देने के लिए यूपी कॉलेज ले जाया जा रहा था, जिसे सपा कार्यकर्ताओं ने रोककर बेवजह मामले को तूल दे दिया है।

वाराणसी सोनभद्र बरेली सहित कई स्थानों पर हम पकड़े जाने की खबर आने के बाद सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने मतगणना में धांधली होने की आशंका जताई है। अखिलेश ने बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव सभी जिलों के डीएम को फोन कर आदेश दे रहे हैं कि जहां भाजपा प्रत्याशी हार रहे हो अथवा 5000 से कम अंतर हो तो वहां धीमी गति से गणना कराइए। ताकि रात होने पर गड़बड़ी करने का पर्याप्त समय मिल जाए। अखिलेश यादव ने दावा किया कि सीएम के प्रमुख सचिव की हरकत का उनके पास पुख्ता सबूत है और चुनाव आयोग ने सबूत मांगा तो उसे उपलब्ध कराएंगे।

मंगलवार शाम लखनऊ प्रदेश कार्यालय में पत्रकारों से वाराणसी में पकड़ी गई अभियान की रिकॉर्डिंग दिखाते हुए बताया कि यह 3 गाड़ियों में ईवीएम मिलने की सूचना मिली, दो गाड़िया भाग गई व एक गाड़ी पकड़ी गई। इसी तरह बरेली और सोनभद्र में भी ईवीएम लदी गाड़ियां पकड़ी गई है। चुनाव आयोग की नियमावली अनुसार किसी कारणवश यदि ईवीएम एक जगह से दूसरी जगह ले जाना हो तो सभी दलों के प्रत्याशियों को सूचना देना अनिवार्य है। लेकिन वाराणसी, सोनभद्र और बरेली में चोरी-छिपे ईवीएम को स्थानांतरण कराए जाने से सवाल उठना लाजिमी है कि सरकार जानबूझकर बेईमानी पर उतारू है।

सपा अध्यक्ष ने पार्टी कार्यकर्ताओं से अपील किया है कि मतगणना के दौरान पूरी तरह से चौकन्ना रहें। लोकतंत्र में आस्था रखने वाले कर्मचारी अधिकारी व अन्य लोग भी सहयोग करें। यह चुनाव लोकतंत्र बचाने का है। सभी समाजवादी साथी 3 दिन तक स्ट्रांग रूम के बाहर रात दिन निगरानी करें।

उत्तर प्रदेश उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि परिवारवाद के प्रति का अखिलेश यादव का हार से भाई लोकतंत्र बचाने के लिए क्रांति की बात करना महज मजाक सा लगता है। लोकतंत्र व संवैधानिक संस्थाओं पर भरोसा नहीं करें और अखिलेश के मुंह से लोकतंत्र की बात निरर्थक है। लोकतंत्र बचा है और बचेगा, सपा की गुंडागर्दी नहीं बचेगी। केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि जनता ने सपा को दफा कर दिया है, इसलिए अखिलेश यादव 10 मार्च से पहले ही कहने लगे हैं ईवीएम बेवफा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button