कारोबारभारतमध्यप्रदेशसिंगरौली

समय से पूर्व ही एनसीएल ने वार्षिक कोयला उत्पादन लक्ष्य को किया पार।

उत्पादन एवं प्रेषण के शिखर पर एनसीएल।

कोल इंडिया लिमिटेड की सिंगरौली स्थित सहायक कंपनी नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड ने 8 दिन पूर्व ही अपने वार्षिक कोयला उत्पादन लक्ष्य 119 मिलियन टन को पार कर लिया। इस दौरान कम्पनी ने कोयला उत्पादन में शानदार 6.50% की वार्षिक वृद्धि के साथ 119.05 मिलियन टन कोयला उत्पादन किया। यह कंपनी की स्थापना से अब तक का सबसे अधिक कोयला उत्पादन है। कंपनी ने इस अवधि में पिछले वर्ष की तुलना में 7.23 मिलियन टन अधिक कोयले का उत्पादन किया है। चालू वर्ष के कोविड जनित चुनौतियों एवं इसके बाद के समय में देश की बढ़ी हुई ऊर्जा ज़रूरतों की पृष्ठभूमि में कम्पनी का यह प्रदर्शन बेहद महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

इस शानदार प्रदर्शन पर सीएमडी भोला सिंह, निदेशक (तकनीकी/संचालन) डॉ. अनिंद्य सिन्हा, निदेशक (वित्त एवं कार्मिक) आरएन दुबे, निदेशक (तकनीकी/परियोजना एवं योजना) एसएस सिन्हा, मुख्य सतर्कता अधिकारी एके श्रीवास्तव ने टीम एनसीएल को बधाई दी और इस उल्लेखनीय उपलब्धि का श्रेय राष्ट्र की ऊर्जा सुरक्षा के लिए दिन-रात खदानों में डटे एनसीएल के कोयला योद्धाओं की अटूट प्रतिबद्धता और ठोस प्रयासों को दिया।

इस अवसर पर सीएमड़ी एनसीएल श्री सिंह ने निरंतर सहयोग और मार्गदर्शन के लिए कोयला मंत्रालय और कोल इंडिया लिमिटेड का आभार व्यक्त किया। श्री सिंह ने स्थानीय जनप्रतिनिधियों, कर्मचारी प्रतिनिधियों, आसपास के ग्रामीणों और सभी हितधारकों का भी सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया। साथ ही उन्होंने देश को ऊर्जा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लिए बिजली घरों सहित सभी उपभोक्ताओं को पर्यावरण अनुकूल और सतत खनन के माध्यम से कोयले की निर्बाध आपूर्ति हेतु कंपनी की प्रतिबद्धता दोहराई।

कंपनी की जयंत, झिंगुरदा और ककरी इकाइयां पहले ही अपने वार्षिक उत्पादन लक्ष्य को पूरा कर चुकी हैं। साथ ही कंपनी की अधिकांश अन्य कोयला परियोजनाओं की भी आगामी 02-03 दिनों में अपने वार्षिक उत्पादन लक्ष्य को प्राप्त करने की संभावना है। विगत वर्ष की समान अवधि की तुलना में 15.6% की शानदार वृद्धि दर्ज करते हुए एनसीएल ने 126.50 मिलियन टन के वार्षिक लक्ष्य के मुकाबले उपभोक्ताओं को बुधवार तक 122.79 मिलियन टन कोयला प्रेषित किया है। वर्तमान प्रदर्शन के आलोक में कंपनी वित्त वर्ष के अंत से पहले अपने वार्षिक कोयला प्रेषण लक्ष्य को हासिल करने के लिए आशान्वित है।

एनसीएल मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश राज्य के सिंगरौली और सोनभद्र जिले में 10 उच्च मशीनीकृत खुली खदानों से कोयला निकालती है। गौरतलब है कि एनसीएल को वर्ष 2023-24 तक देश को कोयला क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने में योगदान करने हेतु 130 मिलियन टन कोयला उत्पादन करना है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button