Crime NewsFEATUREDउत्तर प्रदेशनोएडा/गौतम बुद्ध नगर

बाइक से स्नैचिंग करने वाले गिरोह का पर्दाफाश।

गौतमबुद्ध नगर। बाइक से चैन स्नैचिंग व लूटपाट की घटनाएं अक्सर सुनने को मिलती है। पलक झपकते ही बाइक सवार लुटेरे आंखों के सामने से मोबाइल या गले से चेन खींचकर फरार हो जाते हैं। नोएडा के थाना-58 पुलिस ने अन्तर्राज्जीय मोबाइल स्नैचर गैंग के 6 सदस्यों को गिरफ्तार किया हैं और इनके कब्जे से झपट्टामारी कर लूट के 105 मोबाइल फोन, चोरी की 02 केटीएम बाईक, चोरी की 01 अपाचे बाईक, 05 अवैध तमंचे सहित 21 कारतूस बरामद किये है। वही गैंग को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम के लिए 25,000 रूपये के ईनाम घोषित किए गए है।

बाइक से स्नैचिंग कर लूटी गई मोबाइल।

पुलिस की गिरफ्त में खड़े यह एक गैंग के छः शातिर स्नैचर्स को नोएडा थाना सेक्टर-58 पुलिस द्वारा अन्तर्राज्जीय आकाश, सागर, आदित्य, अय्यूब, आकाश पाल, पुनीत को थाना सेक्टर-58 नोएडा क्षेत्र के गोल चक्कर (मॉडल टाउन) सेक्टर-62 नोएडा से गिरफ्तार किया है। इनके कब्जे से लूट के 105 मोबाइल फोन विभिन्न कम्पनियों के, चोरी की 02 केटीएम बाईक, एक चोरी अपाचे बाईक, 05 अवैध तमंचे अहित 15 जिन्दा व 06 खोखा कारतूस बरामद हुए है। लूटे गये सभी मोबाइल फोन की कीमत 17,00,000 रूपये आंकी जा रही है।

पुलिस पूछताछ में इस गैंग के सदस्यों ने बताया कि आकाश इस अन्तर्राज्जीय मोबाइल लुटेरे गैंग का सरगना है। इसके गैंग में इसके अलावा कुल 05 अन्य सदस्य है। इस अन्तर्राज्जीय गैंग को चलाने वाले आकाश को अय्यूब उर्फ आयान, पुनीत के साथ मिलकर स्पोर्टस बाईक चोरी करके उपलब्ध कराता है, तब आकाश व सागर यह निर्धारण करते थे कि किस क्षेत्र में किस गैंग को जाना है। आकाश साहिबाबाद में एक संस्कृत आयुर्वेदा कॉल सेन्टर में काम करता है इस लिये यह सागर के साथ मिलकर मुख्य रूप से इंडस्ट्रीयल एरिया को अपने अपराध करने के लिये ज्यादा आसान मानते थे। इसके अलावा इन लोगो ने बताया कि जब कम्पनियों से नौकरी के बाद लोग निकल कर अपने घरो को जाते है तो उस समय भी मोबाइल लूट की घटना को अंजाम देना आसान था, इन दोनों का लूट करने का समय सुबह 09 बजे से 10 बजे और शाम को 05 बजे से 07 बजे तक रहता था, इसके अलावा आकाश पाल अपने साथी आदित्य और अय्यूब के साथ मिलकर मोनिंर्ग वार्क्स के साथ समय सुबह 05 बजे से 08 बजे तक लूट की घटना को अंजाम देते थे।

पुलिस की गिरफ्त में लुटेरे।

वही इसके अलावा आदित्य और पुनीत के द्वारा भी गाजियाबाद, दिल्ली, नोएडा एनसीआर क्षेत्र में घूम-घूम कर दोपहर टाईम पर लूट की घटनाओ को अंजाम देते थे। ये मुख्यतः महिलाओं को घटना के लिये टार्गेंट करते थे साथ ही साथ अन्य लोगों के साथ भी घटनाये करते थे। ये घटना के समय डराने के लिये तमंचा दिखाते थे तथा अगर पीडित इसका विरोध करता था तो उसके साथ मारपीट भी करते थे। पूछताछ में यह भी सामने आया कि अगर पीडित अकेले बाईक से जा रहा है तो उसकी गाड़ी को अपनी रेसर बाईक से हिट कर गिरा देते थे और उसका मोबाइल छीनकर ले जाते थे। ऐसी इन्होने अभी 10 दिन पहले दिल्ली में चार-पाँच घटनाओ को अंजाम दिया है। ये ऑन डिमान्ड मोबाइल लूट की घटना को अंजाम देते थे, इनके पास ओपो या वीवो, रेडमी, रियलमी, आईफोन आदि डिमाण्ड ज्यादा रहती थी, अगर इसके अलावा दूसरा फोन स्नैच हो जाता था तो उसको अपने पास रखते थे। ये 4-5 महीने तक फोन को रखते थे तथा कुछ फोन के आईईएमआई भी चेन्ज कराते थे। इसके अलावा घटना में दो केटीएम व एक अपाचे बाइक प्रयुक्त होती थी, ये आपराधिक तत्व तमंचे रिठाला (दिल्ली) से लाते थे। ये मोबाइल को 3000 रूपये से 5000 रूपये तक के बीच में बिक्री कर आपस में पैसे बांटते रहते थे। इनके द्वारा गफ्फार मार्केट दिल्ली से आईएमईआई चैन्ज करना बताया गया है। अभियुक्तों द्वारा यह भी बताया कि वह 03 वर्षो से यह लूट जैसी वारदात को अंजाम दे रहे है।

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के नोएडा पुलिस द्वारा सुनील सर के एक बड़े गिरोह का पर्दाफाश कर दिया गया है लेकिन देश के विभिन्न कोनों में जयंत ने चार ओवर लुटेरों का एक सक्रिय गिरोह सिंडिकेट के रूप में सक्रिय रहता है? जिनके ऊपर कार्रवाई होना नितांत आवश्यक है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button