FEATUREDधर्म/संस्कृतिबिहारभारतसिंगरौलीसोनभद्र

‘जल्दी उगी आज आदित गोसाई’ : घाटों पर उमड़ा आस्था का सैलाब।

उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ संपन्न हुआ चार दिवसीय महापर्व।

उर्जान्चल। “उगह हे सूरज देव भेल भिनसरवा” लोकगीत के धुनों के बीच पानी में खड़े हो व्रती महिलाओं द्वारा उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही उर्जान्चल में गुरुवार को चार दिवसीय लोक आस्था का छठ महापर्व संपन्न हो गया। इस दौरान छठ घाटों पर आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा। उर्जान्चल के शक्तिनगर स्थित एनटीपीसी चिल्का झील पार्क व कोटा बोट प्वाइंट, एनसीएल खड़िया स्थित चैतन्य वाटिका घाट, जयंत रोज गार्डेन, विन्ध्यनगर एनटीपीसी पार्क, निगाही एनसीएल शिव मंदिर, मोरवा शिव मंदिर आदि प्रमुख छठ घाटों पर छठ पूजा करने वालों की भारी भीड़ उमड़ी और भगवान आदित्य को अर्घ्य देने के बाद घाट पर उपस्थित श्रद्धालुओं ने व्रतियों से ठेकुआ का महाप्रसाद ग्रहण किया।

सोमवार को नहाय-खाय के साथ चार दिवसीय लोक आस्था का छठ महापर्व शुरू हुआ था। इसके अगले दिन मंगलवार को खरना का व्रत हुआ, जिसमें व्रतियों ने गुड़ से बनी खीर का सेवन किया। बुधवार शाम व्रतियों ने छठ घाटों पर छठ पूजा का पहला अर्घ्य डूबते सूर्य को दिया गया। इसके अगले दिन गुरुवार सुबह उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ छठ महापर्व का समापन हुआ। उगते सूर्य को अर्घ्य देने के बाद व्रतियों का 36 घंटे के निर्जला व्रत का समापन हुआ।

एनसीएल खड़िया क्षेत्र मुख्य महाप्रबंधक राजीव कुमार ने घाट पर उपस्थित सभी श्रद्धालुओं को छठ पूजा की शुभकामनाएं प्रेषित करते हुए क्षेत्र में सुख शांति एवं समृद्धि की कामना किया।

एनसीएल खड़िया चैतन्य वाटिका छठ घाट पर एनसीएल द्वाराविभिन्न सेवा कार्य करते हुए निशुल्क चाय वितरण किया गया। साथ ही व्रतियों की सेवा में तत्पर अम्बेडकर नगर व्यापार मंडल द्वारा भी चाय व भगवान भास्कर को अर्घ्य देने हेतु सभी व्रतियों को गाय के दूध का निशुल्क वितरण किया गया। वहीं शक्तिनगर युवा समाजसेवी टीम द्वारा भी सेवा कार्य किए गए। सभी छठ घाटों पर विभिन्न सामाजिक संगठनों, कंपनियों व समाजसेवियों द्वारा सेवा कार्य किया गया।

शक्तिनगर थाना क्षेत्र में प्रभारी निरीक्षक मिथलेश मिश्रा, विंध्यनगर में यूपी सिंह, जयंत में रामायण मिश्रा, वैढ़न में अरुण पांडे, नवानगर में रावेन्द्र द्विवेदी, मोरवा में मनीष त्रिपाठी व बीना में अश्वनी राय द्वारा छठ घाटों पर सुरक्षा के चाक चौबंद व्यवस्था के लिए मय बल के साथ मुस्तैद दिखे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button