FEATUREDसोनभद्र

वारफाल निर्माण को लेकर ग्रामीणों संग अधिकारियों की बैठक, मौके का किया मुआयना।

क्तिनगर। एनसीएल खडिया परियोजना द्वारा कराए जा रहे वारफाल निर्माण के विरोध में खड़िया बाजार के नाउ बस्ती के विस्थापितों के साथ एनसीएल खड़िया परियोजना ने सक्षम अधिकारीयों संग अधिकारी क्लब में बैठक आयोजित किया। जिसमे भारी संख्या में महिलाएं भी उपस्थित रहीं। बैठक में मुख्य रूप से उपस्थित एसडीएम दुद्धी समेत प्रदूषण अधिकारी व एनसीएल अधिकारी, थाना प्रभारी मिथलेश मिश्रा मौजूद रहे।

वारफाल निर्माण से होने वाली समस्याओं पर विस्थापित परिवारों से सक्षम अधिकारीयों ने जानकारी लिया। जिसमे खड़िया ग्राम प्रधान विजय गुप्ता उर्फ लालबाबू समेत आशीष चौबे, राजकुमार पटेल, पूर्व जिला पंचायत सदस्य मुनीब गुप्ता, सपा युवा नेता मुकेश सिंह समेत उपस्थित अन्य ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि पहले से ही क्षेत्र में काफी ज्यादा प्रदूषण है जिसके कारण लोगों का जीना दुश्वार हो गया है। प्रदूषण के कारण तमाम बीमारियां क्षेत्र के लोगों को घेर रही हैं। ऐसे में फ्लोराइड युक्त पानी भी लोग पीने को मजबूर हैं। यहां की मुख्य समस्या प्रदूषण ही है जिसको लेकर कई बार आंदोलन भी किया जा चुका है।

अब ऐसे में नाउ बस्ती के समीप लगभग 20 मीटर की दूरी पर बनाए जा रहे वारफाल से लोग अपने घरों में ही रहकर बीमार हो जायेंगे। नाउ बस्ती में रहने वाले लागभग 87 परिवार आज भी प्रदूषण से परेशान है, फिर चाहे वह हवा हो, पानी हो या फिर भोजन हो सभी चीजों में प्रदूषण होने के कारण बीमार रहते है।

फोटो : महामना न्यूज नेटवर्क

बैठक में ग्रामीणों द्वारा कहा गया कि या तो हम विस्थापित परिवारों को अन्य जगह विस्थापन कर दिया जाए। बैठक में एनसीएल परियोजना के अधिकारियों द्वारा अपना पक्ष रखते हुए प्रदूषण को रोकने को लेकर तमाम वादे करते हुए दिखाई दिए। वारफाल के पास बाउंड्री करने की बात कही गयी। एसडीएम व अन्य अधिकारियों द्वारा वारफाल बनाये जा रहे स्थान का निरीक्षण किया गया। जिसके बाद दुबारा मंगलवार को एनसीएल के अधिकारियों और ग्रामीणों को आपसी बैठक कर निष्कर्ष निकालने का आदेश दिया गया हैं।

बताते चले कि नाउ बस्ती के बिल्कुल समीप एनसीएल खड़िया परियोजना द्वारा वारफाल का निर्माण किया जा रहा था। जिसकी जानकारी नाउ बस्ती के लगभग 87 विस्थापित परिवारों को मिलते ही विरोध करते हुए वारफाल के कार्य को स्थगित कर दिया गया था। जिसके बाद ग्रामीणों द्वारा अपनी गुहार उच्च अधिकारियों समेत नेताओ से लगाई गई थी। जिसकी सूचना एसडीएम दुद्धी को मिलते के बाद एसडीएम दुद्धी द्वारा लगातार इस मामले पर नज़र बनाई गई है। बीजेपी की ओर से भाजपा मंडल अध्यक्ष प्रशांत श्रीवास्तव एव भजपा नेता अनिल सिंह गौतम भी मौजूद रहे।

रविवार को एनसीएल खड़िया के अधिकारी क्लब में द्वार वारफाल के निर्माण में ग्रामीणों द्वारा रुकावट के संबंध में एनसीएल खड़िया के मुख्य महाप्रबंधक, क्षेत्रीय प्रदूषण अधिकारी राधे श्याम, थाना प्रभारी शक्तिनगर तथा एनसीएल के सभी अधिकारियों, सम्मानित जनप्रतिनिधियों तथा नाउ बस्ती के वासियों के साथ जनसुनवाई का कार्यक्रम एनसीएल खड़िया के मीटिंग हॉल में आयोजित किया गया। इस संबंध में जनप्रतिनिधियों तथा स्थानीय लोगों द्वारा वारफ़ाल से उड़ने वाले धूल तथा प्रदूषण के बारे में अपनी चिंता जताई तथा नाउ बस्ती को अन्य जगह स्थापित करने अथवा वारफॉल को अन्यत्र शिफ्ट करने की मांग उठाई और यह भी आरोप लगाया कि एनसीएल द्वारा अपने सीएसआर के मद से नाउ बस्ती का कोई ध्यान नहीं रखा जाता है। बस्ती को अन्यत्र शिफ्टिंग के बिंदु पर एनसीएल ने बिना अधिग्रहण पुनर्वास के लिए असमर्थता जताई।

महामना न्यूज़ नेटवर्क

जन सुनवाई के बाद सभी अधिकारियों के साथ वारफ़ाल के स्थान का निरीक्षण किया गया। वहां पर भी जनता की बात को सुना गया। मौके का निरीक्षण किया गया तथा सभी की बातों को सुनते हुए एनसीएल खड़िया के अधिकारियों को यह निर्देशित किया गया कि इसके संबंध में प्रदूषण और अन्य पर्यावरण प्रावधानों के तहत किसी आईआईटी से रिपोर्ट ले लिया जाय तथा उसी के अनुसार निर्माण कराया जाय तथा जनकल्याण हेतु नई बस्ती के लोगों की समस्याओं को देखते हुए सीएसआर के तहत ज्यादा से ज्यादा सुख सुविधाओं पर ध्यान दिया जाए। इस संबंध में सभी जनप्रतिनिधियों तथा एनसीएल प्रबंधन द्वारा मंगलवार को दो बजे आपस में बैठकर विचार करने के लिए कहा गया है जिससे कि जनता के बात को ध्यान में रखते हुए वारफ़ाल के निर्माण के लिए निर्णय लिया जा सके।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button